Dowry System In India

Dowry System in India

दहेज क्या है ? (What is Dowry)

दहेज विवाह से पहले, उसके दौरान या उसके बाद में दुल्हे के माता – पिता एवं परिवार वालों द्वारा दुल्हन के माता – पिता एवं परिवार से माँगा जाने वाला धन होता है. यह किसी तीसरे पक्ष के माध्यम से मांगा जाता है. इसमें पैसा, संपत्ति, अभूषण, वाहन, फर्नीचर, उपकरण, कपड़े आदि किसी भी प्रकार की चीजें शामिल हो सकती है. जिसे दुल्हन के घर वालों से अनुरोध कर उनके ससुराल वालों द्वारा माँगा जाता है. दुसरे शब्दों में कहा जाए तो दुल्हे या उसके परिवार द्वारा की जाने वाली किसी भी तरह की मांग, जिसमें शादी के संबंध में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष सौदा शामिल है उसे दहेज माना जाता है.

भारत में दहेज प्रणाली

दोस्तों हम सभी जानते हैं कि विवाह समाज का एक अहम हिस्सा होता है. ख़ुशी और उत्सव का स्त्रोत होता है और यह साथ ही साथ नई शुरुआत भी है. लेकिन फिर भी भारतीय समाज में विवाह से जुड़ी सबसे लंबे समय तक चलने वाली बुराइयों में से एक दहेज प्रणाली है. यह एक समाजिक बुराई है जिससे आज तक हर नागरिक लड़ रहा है. और प्रत्येक व्यक्ति को इससे लड़ने के लिए बड़े पैमाने पर परिवार, समुदायों और समाज में जागरूकता पैदा करने की आवश्यकता होती है. अतः इस प्रथा का समर्थन करने वाले लोगों के खिलाफ निरंतर और सावधानीपूर्वक उठाया गया कदम धीरे – धीरे इस बुराई से छुटकारा पाने में मदद करेगा

History and Origine Dowry ?

ऐसा माना जाता है कि दहेज प्रणाली की उत्पत्ति वैदिक काल में हुई थी, जोकि शादी के संस्थानों में औपचारिक अनुष्ठान के रूप में शुरू हुई थी. इसलिए यह कहा जाता है कि यह सदियों से चली आ रही है. दरअसल प्राचीन काल में राजा अपनी बेटियों की विदाई कुछ उपहारों के साथ किया करते थे, ताकि उनकी बेटियां अपने ससुराल में आराम से रह सकें. इसके बाद जब अंग्रेजों ने भारत पर शासन किया, तो उन्होंने महिलाओं के लिए कानून बनाया कि उनका किसी भी संपत्ति का मालिक होना वर्जित है, इस प्रकार उनको दी जाने वाली पूरी संपत्ति उनके पति और उनके ससुराल को मिल जाया करती थी. फिर धीरे- धीरे यह एक प्रथा बन गई. जहाँ दुल्हे एवं उसके घर वालों द्वारा दुल्हन के घरवालों से इसकी मांग की जाने लगी और यह बड़े पैमाने में पूरी दुनिया में फ़ैल गया खासकर के भारत में. इस तरह से यह देश की एक गंभीर समस्या बनी हुई है. यह दक्षिण एशिया के देशों में कई संस्कृतियों एवं मुख्य रूप से हिन्दुओं, सिखों, जैनों और मुसलमानों जैसे धर्मों के बीच ज्यादा प्रचलित है.

दहेज प्रथा समाज में रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति एवं उनके परिवार के लिए एक बहुत बड़ी समस्या है, यदि संपूर्ण समाज एकता के साथ तथा एकजुट होकर दहेज प्रथा को समाप्त करने का प्रयास करेगा तो अवश्य ही इस सामाजिक बुराई को जड़ से मिटाया जा सकता है।

Reasons for Dowry System In India

Note :- कुछ लोगों का मानना होता है कि बेटी को अधिक दहेज देकर उन्हें समाज द्वारा सम्मान प्राप्त होगा जिसकी वजह से वे अपनी बेटियों को अधिक दहेज देकर अपनी झूठी प्रतिष्ठा का प्रदर्शन करते हैं। इसके अलावा वे लोग जिन्होंने अपनी बेटी की शादी में अधिक दहेज दिया है वे लोग लड़के की शादी के माध्यम से उस धन को दोबारा प्राप्त करने का प्रयास करते हैं और इन्हीं कारणों से दहेज प्रथा को हमारे समाज में बढ़ावा मिलता है।

Impact of Dowry System

Gender Discrimnation: Due to the dowry system, many a times it has been seen that women are seen as a liability and are often subjected to subjugation and are given second hand treatment may it be in education or other amenities.

Affecting Career of Women: The larger context for the practice of dowry is the poor presence of women in the workforce, and their consequent lack of financial independence.

Crime Against Women: In some cases, the dowry system leads to crime against women, ranging from emotional abuse and injury to even deaths.

Such effects, which include dowry- related violence and abuse, bride burning, wife murder, and female infanticide, constitute some of the most highly detrimental ills perpetrated against Indian women. The provisions and acts against dowry in the Indian legal code are largely ineffective.

THE DOWRY PROHIBITION ACT, 1961, (Act No. 28 of 1961)

(20th May, 1961)

An Act to prohibit the giving or taking of dowry

Be it enacted by Parliament in the Twelfth Year of the Republic of India as follows:

(1) This Act may be called the Dowry Prohibition Act, 1961. It extends to the whole of India except the State of Jammu and Kashmir. It shall come into force on such date as the Central Government may, by notification in the official Gazette, appoint.

Penalty for giving or taking dowry.-

f any person, after the commencement of this Act, gives or takes or abets the giving or taking of dowry, he shall be punishable with imprisonment for a term which shall not be less than five years, and with the fine which shall not be less than fifteen thousand rupees or the amount of the value of such dowry

Penalty for demanding dowry.-

If any person demands directly or indirectly, from the parents or other relatives or guardian of a bride or bridegroom as the case may be, any dowry, he shall be punishable with imprisonment for a term which shall not be less than six months but which may extend to two years and with fine which may extend to ten thousand rupees: Provided that the Court may, for adequate and special reasons to be mentioned in the judgment, impose a sentence of imprisonment for a term of less than six months.

Dowry Prohibition Act, 1961

We are against dowry. But I am also not a fan of ruining anyone’s life.

Dowry is payment made in cash or kind to a bride’s in-laws at the time of her marriage. The amount depends on a large number of factors, including region, religion, caste and subcaste, groom’s education, bride’s skin tone, and the negotiation skills of both the families involved.

Women Are Killed ?

More than 8,000 women die as a result of India’s dowry system each year. Sometimes a woman is murdered by her husband or in-laws when her family can’t raise the requested dowry gift. Other times, women commit suicide after facing harassment and abuse for failing to meet the dowry price.

Dowries Keep Girls From Going to School

Families also view school fees for a girl as a waste of money because that investment will not be recouped by the family later in life. Further, girls are often kept at home to do labor for training to be better housewives.

Dowry System Causes ?

  • Economic factors.
  • Social factors.
  • Religious factors.
  • Fraud.
  • Cruelty.
  • Domestic violence.
  • Abetment to suicide.
  • Dowry murder.

दहेज कारण क्या है?

  • लालच
  • दिखावा
  • सामाजिक संरचना
  • धार्मिक तानाशाही
  • सामाजिक बाधाएँ
  • महिलाओं की सामाजिक स्थिति
  • निरक्षरता

Swasth Sewa Misson India's 1 No Health Service Provider

Get A Contect Now